Category Archives: just for fun

बस…’ये’, कहानी है :

बहुत पुरानी एक कहानी मेरी नानी कहतीं थीं,
किसी समय में,किसी जगह ‘कुछ चोरों’ की इक बस्ती थी.
 
मुखिया था जो, सब चोरों का ‘राज-पिता’ कहलाता था,
उसका ही परिवार अकेला, शासन-तंत्र चलता था.
 
बाद पिता के बेटी-बेटे,उस गद्दी के मालिक थे,
चलता था ‘सब -कुछ ‘ मिल-जुलकर,वे सब बे-हद ‘क़ाबिल’ थे.
 
पुत्र नहीं तो ‘पुत्र-वधू’ भी गद्दी की अधिकारी थी,
 जामाता, दौहित्र; पौत्रों.. की भी महिमा न्यारी थी.
  
लूट-पाट का सारा वैभवबाहर  जमा करते थे ,
‘काले-धन’ से सैर-सपाटा,बाहर  करने जाते थे ! 
 
बेचारे,बस्ती-वाले! सब सहमे-सहमे रहते थे,
हक़‘ छीना जाता था उनका ,वह चुपचाप झेलते थे.
 
धीरे-धीरे‘राज-धर्म”…भोली-जनता में उतर गया,
चोरी ही है “राष्ट्र-निति  जन-मानस में ये बैठ गया.
 
बजी दुन्दुभी चोरी की, भय(?)कोई नहीं सताया था !
 सभी निडर हो,चोरी करते ! छीना-झपटा,खाया था,.
 
साठ-साल ! सब चला यथावत्…सब चोरी में डूबे थे,
कौन चोर है?”,”कैसी चोरी?”यह ‘विवेक‘ भी भूले थे.
 
क्रमशः…यह राजा-गण,अपने रास-रंग में,डूब गए,
चौकस रहने की,आवश्यक ‘कूट-निति‘ ही भूल गए.
 
******************************
गढ़ के बाहर ‘लोग  दूसरे’, इसअवसर  को,ताड़ गए,
मौके से, वह इस बस्ती में ,अपने झण्डे गाड़ गए.
 
जन -जन में था नया जोश,वह नया सवेरा लाये थे,
नया प्रबंधन,नयी नीतियाँ,’कुछ अच्छे दिन’ आये थे. 
 
चोर पुराने बड़े सयाने,राजनीति के ‘दिग्गज’ थे,
दंगों की है ‘कूटनीति’ क्या?इसको खूब सनाझाते थे ,
 
कभो यहाँ तो कभी वहां ,कुछ धंधे करते रहते थे,
किसे लड़ा कर ‘नाम कमायें’, फन्दे कसते रहते थे .
 
बँदूकें उनकी होती थीं  ,कन्धा होता, सेना का ! ,
आगजनी और लूट-पाट में चेहरा होता ‘जनता’ का !
 
ना समझे जो इन बातों को…ये उसकी नादानी है,
खोजो न ‘पहचान’ किसी की,ये तो सिर्फ़’कहानी’ है.