भारत और धोखे का इतिहास

भारत का इतिहास गवाह है ,की यहाँ  देशद्रोहियों और पीठ में छुरा भोंकने वालों का इतिहास रहा है .जैचंद और मानसिंह उनमे ऐसे नाम  हैं, जिनको भारत के इतिहास में बदनुमा दाग की तरह हमेशा याद किया जाता है .

आज के समय में देश की राजधानी की अग्रणी विद्यालय -‘जवाहर लाल विश्वविद्यालय’के छात्र ‘कन्हैया कुमार’ ने भी वही किया जो इन प्राचीन देश द्रोहियों ने किया था.देश विरोधी नारे लगा कर ,न सिर्फ शेष की अखंडता को ललकारा है बल्कि देश की पीठ में छुरा भोंका है .ऐसे व्यक्ति पर हम सभी भारतीय शर्मिंदा हैं.

kanhiya kumar

Advertisements

Jat, JNU And Army

Two captains and three other army men died in Pampore terrorists encounter,they are protecting ourselves .
But for whom they were fighting???For the people in “JNU”,or the “Jat of haryana” ??? Jats, who destroyed the property  worth Rs 20,000 crore and The ‘JNU,students are doing anti-national activities.jat andolan(fin.)

For this type of country and countrymen; our army, trains officers, so hard???after 4/5 years of tough training they just die? fighting with some miscreants..???

Please think ! before you start any kind of protest.When Indian army is securing the border, only then the people of Haryana and students of JNU are having time to create  problems for the nation.We should ‘honour and  salute the brave army of India’ and support them by maintaining the peace and harmony inside the country.

“आज का सच,आज की भाषा”

अब कौन किसी के घर जाना है,
सब कुछ phoneसे निबटाना है।
मारना-जीना,ईद-दीवाली,सब पर ,
Message पहुँचाना है।

पहले सफ़र बड़ा मुश्किल था,
मोटर,train,जहाज न थे।
Internet और phone कहाँ था?
डाक,डाकिये लाते थे।

आमन्त्रण के हल्दी-अक्षत,
पंडित -नाई लाते थे ।
Cycle,रिक्शा,तांगा-इक्का
ही,-यात्रा के साधन थे ।

फिर भी, बरही-तेरहवीं….
परिचित-परिवार पहुंचते थे।
हंसी-ख़ुशी या शोक-ग़मी
सब,मिल-जुल गाते-रोते थे।

मिली phone की सुविधा,
जबसे…
मिलाना-जुलना विरल हुआ,
तीज-पर्व और त्यौहारों पर,
जन-कोलाहल मंद हुआ।

सड़कें-गलियां सूनी हैं,
सूना गांवों का चौबारा ।
सभी phone पर लगे पड़े,
सूना लगता अब, घर पूरा।

Graphics अब संवाद..
Emoji(�😊😪)दर्शाते हँसना-रोना,
घर-बहार सब चुप-चुप हैं,
गूँजे…signal का- antenna .

घर तो हैं,comfort zone,
विचलित होते,मेहमानों से।
सबको message से टरकाना….
Browse करके Google से।